फरवरी 06, 2018

टाटा केमिकल्स ने Q3FY18 के समेकित परिणाम घोषित किए

टाटा केमिकल्स ने आज 31 दिसंबर 2017 को समाप्त हुई तिमाही के लिए अपने समेकित वित्तीय परिणामों की घोषणा की। कंपनी ने Q3 FY16-17 के 264 करोड़ रु. की तुलना में 759 करोड़ रु. समेकित PAT की घोषणा की है। 31 दिसंबर 2017 को समाप्त हुई तिमाही में सतत परिचालनों से आय, समेकित आधार पर 2,574 करोड़ रु. रही और सतत परिचालनों से PAT 545 करोड़ रु. दर्ज किया गया जो कि 176 प्रतिशत वृद्धि दर्शाता है।

एकल(स्टैंडअलोन) Q3 FY17-18

  • इंडियन केमिकल्स बिजनस ने सभी प्रॉडक्ट श्रेणियों में परिमाण में सुधार और रियलाइजेशन का प्रदर्शन किया।
  • टाटा सॉल्ट की संवृद्धि के वापस पटरी पर लौटने के साथ इसने जोरदार परिमाण दर्शाए।
  • नेट डेट आधार पर TCL 1,189 करोड़ रु. नकदी के साथ ऋण मुक्त स्थिति में है। सारा जोर अब संवृद्धि से लाभ उठाने की ओर लगाया जा रहा है।
  • यूरिया व्यवसाय के यारा इंटरनेशनल को विनिवेश किए जाने की प्रक्रिया 12 जनवरी 2018 को पूरी हुए।
  • हल्दिया में स्थापित फॉस्फेटिक फर्टिलाइजर व्यवसाय तथा थोक एवं गैर-थोक फर्टिलाइजर्स के ट्रेडिंग व्यवसाय के हस्तांतरण के लिए कंपनी ने IRC एग्रोकेमिकल्स के साथ एक BTA क्रियान्वित किया है।

समेकित Q3 FY17-18

  • उत्तर अमेरिकी परिचालनों ने अनुकूल उत्पादन वॉल्युम और लाभशीलता की बदौलत सतत निष्पादन कायम रखा।
  • इन कारणों से TCNA पर वन-ऑफ प्रभाव:
    • सेवानिवृत्ति पश्चात कुछ मेडिकल प्लान में परिवर्तनों पर एक्च्वेरियल गेन।
    • हालिया यूएस टैक्स लेजिस्लेशन परिवर्तनों में ऑल्टरनेटिव मिनिमम टैक्स (AMT) के निरसन से पूर्व के अनरिकॉग्नाइज्ड टैक्स भुगतान की अधिप्राप्ति संभव हुई।
  • यूरोपीय परिचालनों ने सभी बिजनस यूनिटों में दक्षता में सुधार दर्शाए। ट्रेडेड ऐश की निम्न बिक्री।                                                                                              
  • मगडी ने उच्च वॉल्युम और भरपूर उगाही के साथ परिचालनात्मक निष्पादन में
  • रैलीज इंडिया ने बाजार की चुनौतियों के बावजूद स्थिर निष्पादन दर्ज कराया।
  • 31 दिसंबर 2017 को समेकित सकल ऋण 4,128 करोड़ रु.रहा जबकि 31 मार्च 2017 को यह 5,573 करोड़ था।

व्यवसाय-वार निष्पादन:

उपभोक्ता व्यवसाय                                                               

  • टाटा संपन्न मल्टी ग्रेन खिचड़ी मिक्स को जनवरी में उतारा गया।
  • राष्ट्रीय ब्रांडेड सेगमेंट में टाटा नमक बाजार का लीडर बना रहा।
  • व्यवसाय ने सभी श्रेणियों में परिमाण बढ़ाने पर बल देना जारी रखा।

इंडस्ट्रियल केमिकल्स

  • ग्लोबल केमिकल्स बिजनस ने परिचालनात्मक दक्षताओं की बदौलत बेहतर परिमाण और लाभशीलता दर्ज कराया है।
  • डिटर्जेंट स्पेकल्स –DetMate और फर्मा ग्रेडBicarb- MediKarb को भारत में  उतारा गया।

स्पेशियलिटी केमिकल्स

  • एग्रो केमिकल्स: रैलीज का स्थिर निष्पादन रहा। डिजिटल प्लेटफॉर्म- दृष्टि को भारत में लॉन्च किया गया। तीन फसलों के लिए रोल-आउट योजना – रबी मौसम में कपास, धान और टमाटर।
  • न्युट्रास्युटिकल्स: प्रॉजेक्ट तयशुदा समय से। Q4 FY 2019 में प्लांट में कार्यारंभ होना है।
  • रबड़ और पॉलीमर एडिटिव्स: प्रॉजेक्ट योजना के अनुरूप।

एक्जीक्यूटिव की टिप्पणी

आर मुकुंदन मैनेजिंग डायरेक्टर, टाटा केमिकल्स ने कहा, ‘समीक्षाधीन तिमाही के लिए मुझे भारत और वैश्विक केमिकल बिजनस के जोरदार निष्पादन की सूचना देते खुशी हो रही है। दोनों ने लाभशीलता और दक्ष परिचालनों में सुधार के संकेत दिए।

‘उपभोक्ता व्यवसाय में टाटा साल्ट ने बाजार में अपनी अग्रणी स्थिति कायम रखी है। टाटा संपन्न अंब्रेला ब्रांड के हाल में रोल-आउट हुए प्रॉडक्ट को ग्राहकों की ओर से अनुकूल प्रतिक्रिया प्राप्त हो रही है। सभी प्रॉडक्ट श्रेणियों में अपनी बाजार हिस्सेदारी बढ़ाने और ग्राहक उत्कृष्टता में वृद्धि करने के लिए हम अपना प्रयास जारी रखेंगे। इस दिशा में ग्राहक से जुड़ने के अनेक प्रयास भी शुरू किए गए हैं।

‘फार्म बिजनस में रैलीज इंडिया ने मेटाहेलिक्स के साथ मिलकर फसल सुरक्षा व्यवसाय के क्षेत्र में देश और विदेशों में बेहतर निष्पादन दर्ज किया है। साथ ही, हमने यूरिया व्यवसाय के यारा इंटरनेशनल को विनिवेश किए जाने की प्रक्रिया को सफलतापूर्वक पूरा किया।

‘बैलेंस शीट की डिलिवरेजिंग और अब स्पष्ट रूप से दृश्य स्वस्थ कार्यशील पूंजी स्तर हासिल कर कंपनी का फोकस अब ऋण न्यूनीकरण से संवृद्धि की ओर गया है।

‘इंडस्ट्रियल केमिकल बिजनस में हमारी संवृद्धि रणनीति लीडरशिप पर और उपभोक्ता खाद्य बिजनस में, खासकर एग्रो-केमिकल्स, न्युट्रास्युटिकल्स और रबड़ तथा पॉलीमर एडिटिव्स में हमारा फोकस संवृद्धि पर रहा।’