मई 2017

ऊँची उड़ान

भारत के हैदराबाद में स्थिति टाटा ऐडवांस्ड सिस्टम की विस्तृत प्रतिष्ठान की झलकियाँ, जो एरोस्पेस तथा रक्षा उद्योग के क्षेत्र की दुनिया की अग्रणी कंपनियों के लिए पुर्जों का असेम्बल और निर्माण करता ह

टाटा सन्स की पूर्ण रूप से स्वामित्व वाली सब्सिडियरी कंपनी टाटा ऐडवांस्ड सिस्टम (टीएएसएल‌) बहुत तेजी से एरोस्पेस और रक्षा उद्योग में एक वैश्विक रूप से जाना-पहचाना नाम बन गया है, जो आज इस क्षेत्र की दुनिया की अग्रणी कंपनियों के साथ साझेदारी कर रही है। टीएएसएल के विश्व स्तरीय कार्य और अभिभूत कर देने वाले प्रयासों को देखने के लिए संगीता मेनन ने भारत के हैदराबाद स्थित टीएएसएल की प्रतिष्ठान का दौरा किया

  • टीएएसएल ने सिकोर्स्की एयरक्राफ़्ट कॉरपोरेशन को सुरक्षित हेलीकॉप्टर्स बनाने में मदद की। एक मिलियन फ़्लाइट घंटों की सेवा और एक श्रेणी-अग्रणी सुरक्षा रिकॉर्ड के साथ, सिकोर्स्की एस-92 हेलीकॉप्टर ने इस वर्ग में उद्योग जगत के मानक सेट किए। टीएएसएल तथा सिकोर्स्की ने टाटा सिकोर्स्की एरोस्पेस के नाम से एक संयुक्त उपक्रम स्थापित किया, जो भारत में एस-92 हेलीकॉप्टर का केबिन बनाएगा। इसकी क्षमता सटीकता प्रणाली से लेकर कई प्रकार के मानकों के अनुरूप एक विशेष प्रक्रियाओं तक फैली है। यह संयुक्त उपक्रम GE तथा रॉल्स रॉयस के लिए प्रोपल्शन प्रणाली पर प्रयुक्त होने वाले पुर्जें भी बनाता है।
  • वर्ष 2012 में अपनी स्थापना के समय से हैदराबाद में स्थिति एस-92 असेम्बली प्रतिष्ठान में काफी तीव्र वृद्धि हुई। अपनी यात्रा के आरंभ में जहाँ यह 19 दिनों में केवल एक केबिन बनाता था, आज इसने हर माह इस हेलीकॉप्टर के पाँच केबिन असेम्बली निर्मित करना आरंभ कर दिया है।
  • एस-92 हेलीकॉक्टर केबिन के साइड पैनल असेम्बली की एक ओर काम करते ऑपरेटर।
  • अत्याधुनिक टीएएसएल-सिकोर्स्की एरोस्पेस मशीन शॉप में पुर्जों के निर्माण स्थल की एक हवाई झलक। यह स्थल सिकोर्स्की, बोइंग, आरयूएजी एविएशन, रॉल्स रॉयस, जीई तथा यूटीएएस समेत कई क्लाइंट को अपनी सेवा प्रदान करता है।
  • एस-92 केबिन असेम्बली के लिए ड्रिलिंग ऑपरेशन।
  • टीएएसएल में पुर्जे निर्माण स्थल पर मिलिंग ऑपरेशन संपन्न किया जा रहा है।
  • टीएएसएल, स्विजरलैंड के पिलाटस एयरक्राफ़्ट का एक पसंदीदा साझेदार है। वर्ष 2014 में पिलाटस तथा टीएएसएल ने पिलाटस से नए 'ग्रीन एयरक्राफ्ट' जेनरेशन- यानी पीसी-12 के लिए ऐरोस्ट्रक्चर्स के लिए निर्माण हेतु एक समझौता संपन्न किया। अबतक आठ एयरक्राफ़्ट की आपूर्ति की जा चुकी है और 2017-18 में 30 और एयरक्राफ़्ट की आपूर्ति की जाएगी।
  • फरवरी 2017 एक मील का पत्थर रहा, जब टीएएसएल फ्यूजलेज तथा विंग्स वाला प्रथम पिलाटस पीसी-12 एयरक्राफ़्ट ने उड़ान भरी।
  • पिलाटस पीसी-12 एयरक्राफ़्ट के फ़्यूजलेज व विंग संरचना के निर्माण के लिए विशेष शॉप फ्लोर। टीएएसएल एकीकृत फ्यूजलेस, विंग, कॉकपिट, ऐलेरोन, फिंस तथा रडर्स समेत संपूर्ण एयरक्राफ़्ट बनाता है।
  • सितम्बर 2016 को टीएएसएल प्रतिष्ठान में पहले पिलाटस पीसी-12 ग्रीन एयरक्राफ़्ट का निर्माण किया गया।
  • पिलाटस पीसी-12 टीम (यहाँ दिखाया गया है) इस प्रोग्राम की सफलता का एक बड़ा कारण है।
  • टीएएसएल तथा लॉकहीड मार्टिन कॉरपोरेशन के बीच संयुक्त उपक्रम- टाटा लॉकहीड मार्टिन ऐरोस्ट्रक्चर्स की स्थापना वर्ष 2011 में की गई। इस संयुक्त उपक्रम के तहत लॉकहीड मार्टिन दुनिया भर के एयरफ़ोर्स को सी-130जे की आपूर्ति करेगा और इस मुहिम में हमेशा तैयार रहेगा। टाटा लॉकहीड मार्टिन 50 से अधिक एम्पेनेज असेम्बलीज तथा 25 सेंटर विंग बॉक्स की आपूर्ति कर चुका है।
  • एरोस्पेस क्षेत्र के सर्वोत्तम कार्यों को शामिल करते हुए, यह प्रतिष्ठान सी-130जे हर्कुलीस एयरक्राफ़्ट के लिए कंट्रोल सर्फेस असेम्बलीज का एकमात्र आपूर्तिकर्ता है। यह संयुक्त उपक्रम इन असेम्बलीज के लिए पुर्जों के निर्माण को पूरी तरह से देशीकृत करने की योजना में है।
  • टाटा लॉकहीड मार्टिन ऐरोस्ट्रक्चर्स ने नवम्बर 2013 में सी-130जे के लिए प्रथम एम्पेनेज की आपूर्ति की।
  • टाटा बोइंग एरोस्पेस (टीबीएएल) की स्थापना वर्ष 2016 में 'मेक इन इंडिया' कार्यक्रम के तहत हुई और यह टीएएसएल तथा बोइंग के बीच बढ़ते रिश्ते का एक प्रमाण है। एक जटिल मूल्यांकन प्रक्रिया के बाद, बोइंग ने टीएएसएल का चयन एएच-64 अपाचे के लिए फ्यूजलेजेस के निर्माण तथा असेम्बली के लिए अपने साझेदार के रूप में किया। गौरतलब है कि अपाचे हेलीकॉप्टर दुनिया का सर्वाधिक उन्नत लड़ाकू हेलीकॉप्टर है। टीबीएएल अंत में एएच-64 फ्यूजलेजेस का दुनियाभर में एकमात्र निर्माता बन जाएगा।
  • टीएएसएल, बोइंग 777 कमर्शियल एयरक्राफ़्ट के लिए मुख्य लैंडिंग गियर अप बॉक्स का निर्माण करता है। बी777 प्रॉजेक्ट ने कमर्शियल एयरक्राफ़्ट व्यवसाय में टीएएसएल के प्रवेश को सराहा
  • टीएएसएल तथा बोइंग ने 9 नवम्बर 2015, को दुबई एयर शो में टाटा बोइंग एरोस्पेस के निर्माण के लिए संयुक्त उपक्रम पर हस्ताक्षर किया। इस अवसर पर उपस्थिति रहने वाले उच्च पदाधिकारियों में शामिल थे- एस रामादुरई, चेयरमैन टीएएसएल; सुकरन सिंह, एमडी तथा सीईओ, टीएएसएल; क्रिस चैडविक, प्रेसिडेंट तथा सीईओ, बोइंग डिफेंस, स्पेस एंड सिक्योरिटी; प्रत्यूष कुमार, प्रेसिडेंट, बोइंग इंडिया तथा टीएएसएल तथा बोइंग्स से जुड़े अन्य वरिष्ट लोग।
  • टीएएसएल ने बोइंग Ah6i के लिए वर्टिकल स्टैबिलाइजर्स का निर्माण किया। 'लिटल बर्ड' के नाम से लोकप्रियता प्राप्त Ah6i एक लाइट अटैक हेलीकॉप्टर है, जिसका इस्तेमाल दुनिया भर के रक्षा बलों द्वारा किया जाता है।