अक्तूबर 31, 2017

टाटा ग्लोबल बेवरेजेज ने बंगलुरु से अपने प्रथम टी कैफे की शुरुआत की

टाटा चा के चार पाइलट स्टोर में से पहले स्टोर का शटर आज इंदिरानगर में उठाया गया

बैंगलोर: टाटा ग्लोबल बेवरेजेज (TGB), दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी चाय कंपनी, अपने पहले टी कैफे- टाटा चा की पहलेपहल शुरुआत के साथ आउट-ऑफ-होम पेय स्थल का आकलन कर रही है। यह पहला टाटा चा टी कैफे 12वें मेन इंदिरानगर, बंगलुरु के केंद्र में अवस्थित है। कंपनी की योजना चार पाइलट स्टोर की टेस्ट शुरुआत करना है जिसमें ग्राहकीय प्रस्ताव तथा व्यवसाय मॉडल का मूल्यांकन किया जा सके। पाइलट के परिणामों के आधार पर, TGB आउट-ऑफ-होम (बाहरी) पेय स्थलों के लिए भविष्य में अपनी कार्रवाई के बारे में तय करेंगे।

टाटा ग्लोबल बेवरेजेज के चार पाइलट स्टोर में से पहला बंगलुरु में खुला

इस पाइलट स्टोर के उद्घाटन के अवसर पर, सुशांत दास, क्षेत्रीय अध्यक्ष– भारत, TGB, ने कहा, “टाटा चा में, हमारे प्रस्ताव का सार वास्तव में भारतीय होने में निहित है। यह हमारे ग्राहकों के लिए आधुनिक वातावरण में तापरी चाय की गर्मजोशी पेश करने के संबंध में है। संतुलन एक ऐसा अनुभव प्रदान करने में निहित है जो प्रीमियम और प्रेरणात्मक होने के साथ ही, वास्तविक और प्रामाणिक भी है। आय में आसानी से वृद्धि के साथ, बाहर खाने-पीने की प्रवृत्ति में भी इजाफा हुआ है। हम इस रुझान का एक हिस्सा बनना चाहते हैं और टाटा चा की पाइलट शुरुआत के साथ हम ग्राहक प्रस्ताव; हमारे मॉडल तथा इसकी व्यवहार्यता की जांच करना चाहते हैं। इस उपक्रम के मूल में चाय के प्रति आकर्षण को उन्नत बनाने और इसे नए उपभोक्ता समूहों जैसे कि मिलेनियल्स के लिए और अधिक दिलचस्प बनाने की प्रेरणा निहित है। हमारे चार पाइलट स्टोरों में से पहले में, हम आपके लिए एक विस्तृत मेन्यू लाए हैं जिसे भूले हुए भारतीय व्यंजनों को पुनर्जीवित करने के लिए तैयार किया गया है जिसमें युवा होने की स्फूर्ति के साथ गर्मजोशी को मिलाया गया है। इसके तहत प्रमुख चाय-आधारित गर्म तथा ठंडे पेय, परंपरागत स्नैक्स, और थोड़े बदलाव के साथ डंकर्स और भोजन सम्मिलित हैं।”

यह मेन्यू बहुत सारे स्वास्थ्यवर्धक चाय से भरा-पूरा है जैसे ककंबर ग्रीन टी तथा सुगर-फ्री टेंजी टेमरेंड जिन्हें ऑयल-फ्री सोया कबाब के साथ लिया जा सकता है जो हर मूड को अच्छा लगेगा। दिल्लीवाली कांजी तथा मसाला शिकंजी कुछ स्थानीय लोकप्रिय पेय हैं जिनके साथ मीठा पान तथा रसमलाई मिल्कशेक, पीच आइस्ड टी तथा चिली ग्वावा आइस स्लश के साथ कोल्ड टी भी प्रस्तावित है। गर्म चाय की श्रेणी में सिक्किम चाय, मसाला चाय तथा निंबुड़ा ब्लैक टी शामिल हैं। भोजन मेन्यू के तहत स्थानीय व्यंजनों में उत्तर के बटर चिकन खिचड़ी से लेकर दक्षिण के क्रीमी वेज स्टीव शामिल हैं। देशी व्यंजन जैसे कि उत्तर का चटपटा मटर कुलचा तथा भूले हुए स्वादिष्ट पकवान जैसे दाल पकवान भी इस मेन्यू में शामिल हैं, जो नौजवान मिलेनियलों को इससे परिचित कराते हैं। पेय तथा भोजन की कई प्रस्तुतियां तो खोए हुए भारतीय स्वादों को पुनर्जीवित करने से संबंधित है जिनसे उपभोक्ताओं के मन में पुराने का मोह जाग उठेगा।

पाइलट शुरुआत के लिए बंगलुरु को ही क्यों चुना गया इसके बारे में बताते हुए, श्री दास ने आगे कहा, “बंगलोर भारत के सबसे गतिशील शहरों में से एक है, अपने मूल स्वभाव से महानगर है और यह देश के अलग-अलग कोनों से आए हुए विभिन्न संस्कृतियों के लोगों का स्वागत करता है। अपनी उद्यमशीलता की विशेषता के कारण, यह शहर अभिनव प्रस्तुतियों के लिए चाह रखनेवाले युवा मिलेनियलों का एक बहुत बड़ा घर है।”

TGB ने भारत में चाय पीने की बारीकियों को समझने की विशेषज्ञता अर्जित करने में दशकों लगाए हैं, और हम इस बारे में सचेत हैं कि भारतीय लोग उबाली हुई चाय पीना पसंद करते हैं। इस समझ के आधार पर, टाटा चा खासतौर पर ताजा उबाली हुई चाय प्रस्तुत करेंगे, बिल्कुल कोने पर स्थित चाय की दुकान की तरह, समय पर एक बिल्कुल अच्छी चाय परोसी जाएगी। स्नैक्स के साथ घर से बाहर चाय पीने के अनुभव को बेहतर बनाने के उद्देश्य से, टाटा चा अभ्यस्त और पुराने दिनों की याद को वापस ले कर आ रहे हैं।

टाटा चा को TGB की विरासत अभिव्यक्त करने के लिए डिजाइन किया गया है जो स्थानीय संस्कृति को अपनाते हुए प्रस्तुत होगा। मूल उद्देश्य एक स्थान बनाना है जो सरगर्म हो और चाय के लिए एक फिर से प्यार को बढ़ाता हो। आंतरिक सज्जा में, इसीलिए, कोमल नर्म काष्ठ, चमकीले रंग, रंगीन तथा चित्रित कपड़ों को सम्मिलित किया गया है जिससे एक मनमोहक, युवा माहौल बन सके।