दिसम्बर 28, 2017

टाटा स्टील लगातार तीसरे वर्ष साहित्यिक हस्तियों को भुवनेश्वर लेकर आए हैं

भुवनेश्वर लिटररी मीट जनवरी 11 से 13, 2018, जिसमें उड़ीसा के कुछ श्रेष्ठ साहित्य प्रस्तुत किए जाने हैं

भुवनेश्वर: टाटा स्टील ने आज घोषणा की है कि टाटा स्टील भुवनेश्वर लिटररी मीट (TSBLM) का तृतीय संस्करण जनवरी 11 से 13, 2018 तक, होटल ट्राइडेंट, भुवनेश्वर में आयोजित किया जाएगा। जानेमाने लेखक रस्किन बांड तथा मनोज दास 11 जनवरी को 4 बजे अपराह्न में इस सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे। अब अपने इस तीसरे वर्ष में, यह लिटररी मीट संबाद ग्रुप के सहयोग से आयोजित किया जा रहा है। यह सम्मेलन सभी के लिए खुला है और सभी कार्यक्रमों का आयोजन होटल ट्राइडेंट में किया जाना है। इस वर्ष के सम्मेलन में शामिल होनेवालों में कुछ श्रेष्ठतम कहानीकार तथा इतिहासकार सम्मिलित हैं जिनमें शामिल हैं रस्किन बांड, मनोज दास, तथा मार्क टुल्ली। किरन नागरकर, प्रतिभा सत्पथी, प्रयाग अकबर, रवि सुब्रमण्यम तथा बरखा दत्त कुछ और प्रख्यात हस्तियां हैं जो इस सम्मेलन में भाग लेंगे।

TSBLM में सम्मिलित कुछ श्रेष्ठतम समकालीन उड़ीया साहित्य भी इसकी विशेषता होगी, जैसे कि साहित्य अकादमी अवार्ड विजेता पारामिता सत्पथी, रामचंद्र बेहरा, जितेंद्र नायक तथा गौड़हरि दास। प्रख्यात अभिनेत्री तथा फिल्मकार नंदिता दास भी प्रसिद्ध लेखक सादत हसन मंटो पर अपने आनेवाले बायोपिक के प्रदर्शन के लिए यहां मौजूद होंगी। इस वर्ष के आयोजन की सांस्कृतिक प्रस्तुतियों में सम्मिलित हैं एक लघु फिल्म मैटिनी, जिसकी विशेषता होगी, ‘रॉयल स्टैग बैरल सेलेक्ट लार्ज शॉर्ट फिल्म्स’ संग्रह से समीक्षकों द्वारा प्रशंसित फिल्में, प्रख्यात नृत्यांगना अनिता रत्नम की प्रस्तुति ‘ए मिलियन सितास’, तथा विलियम डलरिम्प के द लास्ट मुगल का पाठ स्वयं लेखक द्वारा, जिनका साथ देंगी वाचन-विशेषज्ञ विद्या शाह।

चाणक्या चौधरी, समूह निदेशक, कारपोरेट संपर्क तथा विनियामक मामले, टाटा स्टील, ने कहा, “हालांकि हमने TSBLM को 2016 में ही शुरु किया है, लेकिन यह वार्षिक आयोजन इस शहर के सांस्कृतिक कैलेंडर में एक बहुप्रतीक्षित अवसर बन गया है। यह आयोजन केवल साहित्य तक ही सीमित नहीं है बल्कि इसका लक्ष्य टाटा स्टील के समाज के युवा भी हैं, हम एक जिम्मेवार कारपोरेट नागरिक के रूप में हमेशा खेल, कला तथा साहित्य को समर्थन देने में विश्वास रखते हैं। हम हर गुजरते वर्ष के साथ TSBLM को और भी बड़ा तथा श्रेष्ठ बनाना चाहते हैं।” ;

अरुण मिश्रा, उपाध्यक्ष, गोपालपुर परियोजना, टाटा स्टील, ने कहा, “स्थानीय साहित्य तथा भाषाओं को प्रदर्शित करना हमेशा हमारे लिए प्रेरक रहा है, और उड़ीसा की साहित्यिक संपदाओं ने हमारा यह कार्य आसान बना दिया है।”

सौम्य रंजन पटनायक, संस्थापक संपादक, संबाद, ने कहा, “यह मास मीडिया का काम है कि वह लोगों को लोगों से जोड़े। संबाद अपनी शुरुआत से ही भाषा तथा साहित्य के लिए काम कर रहा है। बीएलएम के साथ हमारा सहयोग इसी दिशा में एक कदम है।”

मालविका बनर्जी, निदेशक, गेमप्लान ने कहा, “हमारा लिटररी मीट साहित्य से आगे निकल चुका है और संगीत, नृत्य, थियेटर, तथा सिनेमा जैसी अन्य अनेक कलाओं को गले लगा रहा है, जिनके माध्यम से कला की अंतर-संबद्धता प्रकट होती है। परिणामस्वरूप, BLM में हर दिन विभिन्न श्रेणियों के विषयों तथा प्रस्तुतियों की विशेषता होगी।” गेमप्लान 2016 से TSBLM का आयोजन सहयोगी रहा है।

अधिक जानकारी के लिए, कृपया देखें www.facebook.com/bhubaneswarliterarymeet/ या www.bbsrlitmeet.in